Category Archives: मेरे विचार

राहुल ने विराट को बौना साबित किया

Last Updated:  Friday, September 25, 2020  9:30 pm

♦️नरेंद्र भाले ♦️ आप का तो पता नहीं लेकिन मैं निश्चित ही गांव गया हूं। वहां मैंने देखा बैलगाड़ी के नीचे चलने वाले मेला सोनू , मेला बाबू को। वह गरियाते हुए इतने शान से चलता है मानो बैलगाड़ी उसी के कारण चल रही है। बड़ा मजेदार दृश्य होता है। बस यही हाल रॉयल चैलेंजर्स के कप्तान विराट का है। अपनी अकड़ में यह महामानव दूसरे खिलाड़ियों को रेंगने वाला समझता है। पिछले मैच में वॉर्नर सस्ते में निपट गए और पढ़े

बाजीगर का रईस निकला जीरो..

Last Updated:  Friday,   5:36 pm

🎾 नरेंद्र भाले 🎾रुस्तमे हिन्द दारा सिंह की तर्ज पर खेलती है मुंबई। पहले धुलती है और बाद में धोती है। आखिर सातवें मैच में जाकर यूएई में उसे जीत नसीब हुई। T 20 में 49 रन की जीत वास्तव में बहुत बड़ी मानी जाती है। डिकॉक आगाज़ में ही खेत रहे। सूर्यकुमार यादव तथा रोहित शर्मा ने शानदार बल्लेबाजी का प्रदर्शन कर संकेत दे दिए की केकेआर के लिए टारगेट 200 पार पहुंचा दिया जाए। मुटियाते रोहित ने उम्दा और पढ़े

सैमसन की आंधी में धोनी का फ्लॉप शो..

Last Updated:  Wednesday, September 23, 2020  1:50 pm

🎾 नरेंद्र भाले 🎾 वाकई बल्ला भी बोलता है। कल जो भी कुछ हुआ वह परीकथा से कम नहीं था। गेंदबाज गेंद फेंक रहे थे, बल्लेबाज फोड़ रहे थे और क्षेत्ररक्षक केवल बाल बॉय का काम कर रहे थे। शुद्ध रूप से छक्के लग नहीं बल्कि बरस रहे थे। विकेट के रैंप वॉक पर मानो आसमान में छेद करने के लिए बल्लेबाज हथगोला फेंक रहे थे लेकिन गुरुत्वाकर्षण नियम के तहत गेंद वापस जमीन पर आकर फिर से टेक ऑफ और पढ़े

रबाडा ने किया किंग्स इलेवन पंजाब का कबाड़ा

Last Updated:  Wednesday,   1:42 pm

🎾 नरेंद्र भाले 🎾 मोहम्मद शमी की लाजवाब शुरुआत। गेंद न केवल उछाल ले रही थी बल्कि हरकत भी कर रही थी। भाई ने आगाज़ में ही तीन चटका दिए। अय्यर तथा पंत ने अच्छी साझेदारी कर तीन बल्लेबाजों के नुकसान को रफू कर दिया। पंजाब के गेंदबाजों ने उम्दा वापसी की और लगा कि दिल्ली सस्ते में निपट जाएगी लेकिन हरफनमौला स्टोइनिश ने आसमानी पारी खेलते हुए अपनी टीम को लड़ाकू चेहरा प्रदान कर दिया। 20 वा ओवर वरदान और पढ़े

सैम करेन लूट ले गए झामा…!

Last Updated:  Wednesday,   1:36 pm

🥎 नरेंद्र भाले 🥎 इस मौके पर झामा शब्द इसलिए मुझे याद आया क्योंकि डांस शो में तमाम तामझाम के साथ किया गया नृत्य वह भी एक बंदे के संयुक्त प्रयासों के दम पर मजमा लूट ले उसे झामा कहते हैं। तमाशा से मुझे याद आया चंद्रशेखर शर्मा उर्फ चंदू काका का तमाशा। मेरे अभिन्न मित्र चंदू काका का फेसबुक पर आलेख पढ़ा। मन प्रसन्न हो गया। शब्दों की बाजीगरी कोई इस बंदे से सीखे । मानो शब्द इसकी कलम और पढ़े

बड़े अस्पतालों को दें ऑक्सीजन प्लांट लगाने की अनुमति

Last Updated:  Tuesday, September 22, 2020  7:22 am

इंदौर : बीजेपी नेता और खनिज विकास निगम के पूर्व उपाध्यक्ष गोविंद मालू ने केंद्र सरकार से मांग की है कि ऑक्सीजन की बढ़ती खपत को देखते हुए सौ बिस्तरों से ज्यादा वाले अस्पतालों को ऑक्सीजन प्लांट लगाने की अनुमति दी जाए। साथ ही सरकार उन्हें इस पहल के लिए सब्सिडी भी दे। उन्होंने अपने इस सुझाव को लेकर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री और मुख्यमंत्री को पत्र भी लिखा है। श्री मालू ने कहा कि कोरोना संक्रमण को देखते हुए ऑक्सीजन का कृत्रिम संकट और पढ़े

सांसद लालवानी की सिंधी राज्य की मांग विभेदकारी..!

Last Updated:  Friday, September 18, 2020  4:24 pm

इंदौर : सांसद शंकर लालवानी ने गुरुवार को संसद में सिंधी में दिए गए भाषण में सात मांगे सरकार के समक्ष रखीं थीं। उनमें सिंधी भाषा व संस्कृति के उत्थान के लिए राष्ट्रीय सिंधी अकादमीं गठित करने, सिंधी भाषा का राष्ट्रीय चैनल शुरू करने, सिंधी यूनिवर्सिटी स्थापित करने और सिंधी भाषियों के लिए अलग प्रान्त स्थापित करने की मांग प्रमुख थीं। देखा जाए तो किसी भी भाषा, साहित्य और संस्कृति के उत्थान की मांग करने में कुछ भी गलत नहीं और पढ़े

कोरोना वॉरियर्स देश के सच्चे नायक…

Last Updated:  Tuesday, September 15, 2020  10:56 am

चिकित्सक भी है कोरोना रक्षक, विषाणु न बना पाएगा तुमको भक्षक। पुलिस भी है कोरोना योद्धा, रखो तुम इन पर अनन्य श्रद्धा। सफाईकर्मी भी है कोरोना विनाशक, जीवन में लाएँगे खुशहाली वापस। मीडिया करता हमें निरन्तर जागरूक, बताता सोशल डिस्टेन्सिंग हथियार है अचूक। दानदाता भी कर रहे अनवरत सहयोग, हमको नहीं करना इसका दुरुपयोग। प्रशासन भी कर रहा संघर्ष अविराम, हमें तो बस देना है साथ, ताकि हो कोरोना की रोकथाम। सैन्य कर्मियों का भी करना है वंदन, बाहरी शत्रुओं और पढ़े

तू सही तेरा हौंसला सही..जो तुझे करना है…कर तू…

Last Updated:  Friday, September 11, 2020  11:51 am

*रेणु* “ताल ये बेताल है..खुद को ढूंढता..तू क्यों बेहाल है। ऊंचाइयों को छूने की..तुझमें मचलती ये तड़प क्या बेमिसाल है। ना कोई रोकेगा…ना कोई टोकेगा..भेड़ियों की नस्ल की तरह तू लगाता घात है। रात भर जागता वो…रटटे भी मारता वो…इक़वेशन की क्वेश्चन ढूंढता ये जनाब है। रात दिन लगाया…खुद को जलाया…विजयी होगा तू…ये अपने मन को भी समझाया। आखिर दिन दिन गिन…आया आया वो दिन…मोर्चे को तैयार वो खड़ा हुआ एक दिन। हौसला न पूछो क्या था…आंखों से दिखता वो और पढ़े

अरविंद तिवारी की कलम से…खबर जरा हटके…

Last Updated:  Monday, September 7, 2020  2:07 pm

*राजबाडा 2️⃣ रेसीडेंसी* *अरविंद तिवारी* *9009890098* *बात शुरू करते है यहां से* *एक* वक्त ऐसा था जब दिग्विजय सिंह और ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीच सिर्फ लकीरें खिंची हुई थीं, लेकिन अब तो राजनीतिक तलवारें खिंच गई हैं। इसलिए राजा और महाराज दोनों के लिए इस बार के उपचुनाव एक अलग ही किस्म की जंग हैं, जिसमें कोई हारना नहीं चाहता। ग्वालियर-चम्बल की 16 सीट्स पर दिग्विजय सिंह अपनी पूरी ताकत झोंक रहे हैं तो इसकी एक वजह अपने किले को और पढ़े