अण्णा महाराज संस्थान ने किया पंडित रामचंद्र शर्मा का सम्मान

  
Last Updated:  Wednesday, July 21, 2021  "07:24 am"

इंदौर : वेद, धर्म, ज्योतिषी और आध्यात्म पृथक- पृथक विषय हैं। इन विषयों का जितना गहन अध्ययन किया जाए उतना अधिक ज्ञान और आनंद की प्राप्ति हमें मिलती है । यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि इन विषयों के बारे में वर्तमान पीढ़ी को अवगत कराने हेतु कोई व्यवस्था सरकार या विद्यालयों द्वारा नहीं की गई है, अतः जो इन विषयों के ज्ञाता हैं, उनका समाज के प्रति दायित्व और अधिक बढ़ जाता है। वे अपने शिष्य तैयार करें और उन्हें इन विषयों में पारंगत बनाएं।
ये विचार शहर के ख्यात ज्योतिषी और वेदपाठी आचार्य पंडित रामचंद्र शर्मा वैदिक ने अपने सम्मान के अवसर पर प्रकट किए।

सद्गुरु अण्णा महाराज संस्थान में मनाया सम्मान समारोह।

पलसीकर कॉलोनी स्थित श्री दत्त माऊली सदगुरु अण्णा महाराज संस्थान में गुरु पूर्णिमा के अवसर पर प्रतिभा सम्मान समारोह प्रतिवर्ष आयोजित किया जाता है। इसमें सामाजिक, आध्यात्मिक और धार्मिक क्षेत्र में श्रेष्ठ कार्य करने वाले व्यक्तित्वों को सम्मानित किया जाता है । इस वर्ष इंदौर शहर के वेदज्ञानी और ख्यात ज्योतिषी आचार्य रामचंद्र शर्मा वैदिक को सदगुरु अण्णा महाराज और अतिथियों ने शॉल, श्रीफल व सम्मान पत्र भेंट कर सम्मानित किया । बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय और सांसद शंकर लालवानी भी इस दौरान मौजूद रहे। कोविड प्रोटोकॉल के कारण समारोह संक्षिप्त और सीमित संख्या में उपस्थिति के साथ सादगी से सम्पन्न हुआ ।
अण्णा महाराज ने इस अवसर पर कहा कि आचार्य रामचंद्र शर्मा जैसे व्यक्तित्व की उपस्थिति मात्र से सम्पूर्ण वातावरण सकारात्मक और आध्यात्मिक ऊर्जा से भर जाता है । आपके मुख से निकलने वाली वेदों की वाणी व्यक्ति में अद्भुत ऊर्जा का संचार करती है । यह सब वेदों और धार्मिक ग्रंथों के निरन्तर अध्ययन के परिणामस्वरूप ही आचार्यजी को प्राप्त हो सका है । यदि भारत का प्रत्येक हिन्दू वेदों में लिखे कुछ अंश को भी आत्मसात कर लेता है तो देश मे आध्यात्मिक और सकारात्मक ऊर्जा का असीमित संचार होगा जिसके कारण हम पुनः विश्व गुरु बन सकेंगे । संस्थान द्वारा शिक्षा कुम्भ के माध्यम से एकत्रित धनराशि का वितरण भी जरूरतमंद विद्यार्थियों के मध्य किया गया ।
गुरु पूर्णिमा उत्सव के तहत गुरुवार 22 जुलाई को शाम 6.30 बजे से करुणा त्रिपदी का पाठ, दत्तात्रेय भगवान और चौसठ योगिनी देवी की आरती 108 दियों से की जाएगी । आरती पश्चात संस्थान के भजन गायकों द्वारा भजन व भक्ति गीतों की प्रस्तुति दी जाएगी ।
शुक्रवार 23 जुलाई को संस्थान में गुरुपूर्णिमा उत्सव होगा । दोपहर 12.30 बजे आरती होगी । तत्पश्चात पाद पूजन और अण्णा महाराज द्वारा शिष्यों के लिए संबोधन होगा ।
कोविड प्रोटोकॉल के चलते संस्थान परिसर में भक्तों का प्रवेश प्रतिबंधित किया गया है । संस्थान के यू टयूब पेज पर समस्त कार्यक्रमो का लाइव प्रसारण देखा जा सकता है तथा सदगुरु अण्णा महाराज के लाइव दर्शन किए जा सकेंगे ।

Facebook Comments

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *