पेरा ओलिम्पिक में भारत का अबतक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन

  
Last Updated:  Wednesday, September 1, 2021  "10:12 am"

इंदौर : पेरा ओलिम्पिक इतिहास में भारत ने पहली बार लगातार दो दिन में आठ पदक जीते हैं। टोक्यो में अब तक 10 पदक जीतकर भारत ने एक पेरा ओलिम्पिक में सर्वाधिक 4 पदक जीतने (1984और 2016)से दुगने से अधिक पदक हासिल कर लिए हैं। भारत ने पहली बार पेरा ओलिम्पिक खेलों में एक दिन में 2 स्वर्ण सहित 5 पदक 30अगस्त को जीते। पहली बार लगातार दो दिन(30और 31अगस्त)को एक ही मुकाबले(इवेंट)में दो-दो पदक भारत को मिले हैं। टोक्यो ओलंपिक में भी भारत पहले ही अब तक सबसे अधिक सात पदक जीत चुका है।
31अगस्त को 2016रियो के स्वर्ण पदक विजेता मरियप्पन थंगवेलु को ऊँची कूद टी 42 में रजत और शरदकुमार को कांस्य पदक मिला। अमेरिका के साम ग्रेवे स्वर्ण ले गए। 30अगस्त को देवेंद्र झाझरिया ने भालाफेंक एफ46 में रजत और सुंदरसिंह गुर्जर ने कांस्य पदक जीता। देवेंद्र ने 2004 एंथेंस और 2016 रियो में स्वर्ण जीता था। पेरालंपिक में 2 स्वर्ण जीतने वाले वे पहले भारतीय हैं। अब भालाफेंक में तीन पदक जीतने वाले वे पहले भारतीय बन गए हैं। 40वर्षीय देवेंद्र तीन पेरा ओलिम्पिक पदक जीतने वाले दूसरे भारतीय हैं। जोगिंदर सिंह बेदी ने 1984 में 1रजत और 2 कांस्य पदक जीते थे। श्रीलंका के दिनेश प्रियन हेराथ ने 67.79 मीटर के विश्व कीर्तिमान के साथ स्वर्ण जीता, देवेंद्र ने 64.35 मी.से रजत और सुंदरसिंह ने 6 64.01मी.से कांस्य जीता, देवेंद्र भी पिछले विश्व कीर्तिमान से आगे निकल गए।
भालाफेंक के ही एफ64में 23वर्षीय सुमित अंतिल ने एक दिन में तीन विश्व कीर्तिमान बनाए, 66.95मीटर से 62.88मी.के खुद के विश्व कीर्तिमान को तोडा। दूसरे प्रयास में 68.08मी.पहुंचे, पाँचवे प्रयास में 68.55मीटर से स्वर्ण पदक हासिल किया। पेरा ओलिम्पिक में भालाफेंक में ही भारत का यह तीसरा स्वर्ण पदक है।
19 साल की अवनि लेखरा पेरा ओलिम्पिक में स्वर्ण जीतने वाली भारत की पहली महिला बन गई। दीपा मलिक ने 2016 रियो में रजत और भाविना पटेल ने 2020पेरालंपिक में रजत जीता है। जयपुर की अवनि लेखरा ने10मीटर एयर राइफल स्टैंडिंग एस एच 1में 269.6अंकों के साथ स्वर्ण जीता, यह विश्व कीर्तिमान की बराबरी भी है।
अब तक 5भारतीयों को ही पेरा ओलिम्पिक में स्वर्ण मिला है। तैराक मुरलीधरन(1972),देवेंद्र झाझरिया(2004और 2016)मरियप्पन थंगवेलु(2016) एवं टोक्यो मेंअवनि लेखरा और सुमित अंतिल, अवनि पेरा ओलिम्पिक में निशानेबाजी में पदक जीतने वाली पहली भारतीय है।
24वर्षीय योगेश कथुरिया ने चक्काफेंक एफ56में 44.38मीटर चक्का फेंक अपने पहले पेरालंपिक में ही रजत पदक जीता। ब्राजील के सी.बेटिस्टा को स्वर्ण मिला। भारत को निशानेबाजी में दूसरा पदक सिंहराज अडाना ने 31अगस्त को दिलाया। पुरुषों की 10मी.एयर पिस्टल एस एच-1में39वर्षीय सिंहराज को 216.8अंकों से कांस्य पदक मिला,म.प्र.(जबलपुर)की रुबीना फ्रांसिस महिलाओं के 10मी.एयर राइफल के फाइनल में आई लेकिन सातवें स्थान पर रही।
भारत ने अब तक 2स्वर्ण,5रजत और 3कांस्य पदक जीते हैं,पदक तालिका में 24वें स्थान पर हैं।
1सितम्बर से बैडमिंटन मुकाबले भी हैं। भारत को पहली बार पेरा ओलिम्पिक में हो रहे बैडमिंटन में 5 पदक की उम्मीद हैं।

धर्मेश यशलहा

सरताज अकादमी
स्मैश

Facebook Comments

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *