जल प्रबंधन में भी इंदौर को नम्बर वन बनाएंगे, 63 वे स्थापना दिवस पर अभ्यास मण्डल ने लिया संकल्प

  
Last Updated:  Monday, September 13, 2021  "09:02 am"

कीर्ति राणा इंदौर : अभ्यास मंडल ने अपना 63 वां स्थापना दिवस शहर के प्रबुद्धजनों के साथ 63 दीप प्रज्जवलित कर मनाया।सांसद शंकर लालवानी की मौजूदगी में जब अभ्यास मंडल ने 63 वें साल में जल प्रबंधन की दिशा में काम करने और शहरवासियों की भागीदारी से इंदौर को इस क्षेत्र में भी नंबर वन का खिताब दिलाने का संकल्प लिया तो सांसद ने भी विश्वास दिलाया कि इस काम में संबंधित विभाग के अधिकारियों से आपसी सहमति बनवाने के साथ ही शासन स्तर पर भी समन्वय की दिशा में सहयोग करेंगे।उन्होंने 16-17 सितंबर को केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के इंदौर आगमन की जानकारी देने के साथ ही अभ्यास मंडल को आमंत्रित भी किया।

जल प्रबंधन स्टीकर का विमोचन।

प्रेस क्लब सभागार में 63 वें स्थापना दिवस पर जल प्रबंधन में शहर को नंबर वन बनाने के लिए सांसद लालवानी के हाथों जारी किए गए स्टीकर में जल-मल प्राधिकरण का गठन, जल संग्रहण, जल उपचार एवं पुनर्पयोग, पेयजल की गुणवत्ता, उचित जल दर निर्धारण, डबल पाइप लाइन सिस्टम, जल ऑडिट और मीटरिंग की दिशा में अभ्यास मंडल शहरवासियों के साथ मिलकर जनजागरण के लिए चरणबद्ध कार्य करेगा ताकि राज्य सरकार अपनी जिम्मेदारी से मुंह ना मोड़ सके।उपाध्यक्ष अशोक कोठारी ने इस वर्ष चलाए जाने वाले जल प्रबंधन संकल्प की जानकारी दी।उन्होंने बताया कि
एक एक हजार घंटे की स्टडी से तैयार किया प्रतिवेदन सरकार को दिया है।शहरवासियों को साथ लेकर पानी की बूंद बूंद सहेजने के लिए साल भर काम करेंगे।अध्यक्ष रामेश्वर गुप्ता ने इस संकल्प को सिद्ध करने में सभी संगठनों से सहयोग का अनुरोध किया।

19 साल पहले दिग्विजय सिंह ने रिपोर्ट पर चर्चा की लेकिन बात आगे नहीं बढ़ी-अजीत सिंह नारंग।

मालवा चैंबर ऑफ कामर्स अध्यक्ष अजीत सिंह नारंग ने जल प्रबंधन के संबंध में अध्रययन दल के निष्कर्षों का जिक्र करते हुए कहा भारत में सबसे महंगा पानी इंदौर में मिल रहा है।पानी की हो रही दुर्दशा चिंता का विषय है। अध्ययन दल ने चाइना, ब्रिटेन, आस्ट्रेलिया, स्पेन, इजरायल आदि देशों में पानी संरक्षण का अध्ययन पश्चात यह रिपोर्ट तैयार की है।इस रिपोर्ट को बनाने में सांसद लालवानी पहले से जुड़े रहे हैं।17 मई 2002 में तत्कालीन मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के निवास पर इस रिपोर्ट पर चर्चा के साथ पॉवर प्रेजेंटेशन भी दिया था।मुख्य सचिव सहित सभी वरिष्ठ अधिकारी बैठक में मौजूद थे।तब पानी के प्रबंधन के अभाव में साल में 26 करोड़ का घाटा था था जो 2017 में बढ़कर में 240 करोड़ तक पहुंच गया।
जल प्रबंधन की खामियां दो चरण में सुधार सकते हैं।
पहले चरण में सबसे पहले लीकेजेस और लॉसेस रोके जाने चाहिए।लीकेज से, जल-मल मिलने से बीमारियां फैलती है। दूसरे चरण में मीटरिंग लागू की जाए, पानी की टंकी निर्माण-डिजाइन में सुधार जरूरी है ताकि पहले से आखिर घर तक एक समान प्रेशर मिले। टंकी पर मीटर के साथ ही घरों पर मीटर लगाए जाने से पानी वितरण के साथ ही पानी का हिसाब भी पता चल सकेगा किस स्तर पर गड़बड़ी हो रही है।आज की स्थिति में हर वर्ष 60-70 करोड़ रुपए का पानी बर्बाद हो रहा है।द्वितीय चरण में नर्मदा से 50 प्रश पानी कैसे आ सकता है, इस दिशा में रिचार्जिंग, रिसाइकिलिंग, जल बचत की दिशा में काम करना होगा।सांसद लालवानी के सहयोग से इस प्रोजेक्ट को शासन के समक्ष रख सकते हैं।जल की बर्बादी को रोकने में शासन का सहयोग मिले तो जलप्रबंधन में भी इंदौर को नंबर वन कर के दिखाएंगे।

रूफ वॉटर हार्वेस्टिंग के लिए लोगों पर दबाव बनाने से बेहतर है लीकेजेस को रोका जाए-मुकेश चौहान।

पूर्व मुख्य अभियंता मुकेश चौहान ने कहा रूफ वॉटर हारवेस्टिंग अधिक फायदेमंद नहीं।इसमें 20-30 एमएलडी पानी ही आएगा। पब्लिक को परेशान करने का एक और जरिया नगर निगम को मत दीजिए। इससे बेहतर होगा कि लीकेजेस को रोका जाए। जल शक्ति मिशन में हर घर को नल क्यों नहीं दे सकते।घरों में जब नलों से पानी मिलने लगेगा तो लोग जमीन का पानी क्यों निकालेंगे, ट्यूबवेल पर निर्भरता स्वत: कम होती जाएगी।
800 किमी लंबी-भूमिगत स्टार्म लाइन पर राशि खर्च करने से बेहतर है सरफेस ड्रेनेज अधिक महत्वपूर्ण है। नाला टेपिंग कर के ड्रेनेज सरफेस को रोक दिया। पानी को रोको मत, जाने दो।पानी को नाले में जाने दो। अंडर ग्राउंड स्टार्म लाइन शहर के हित में नहीं है।

कुए-बावड़ियों की सफाई के साथ ही नए तालाबों के निर्माण पर सोचना चाहिए-डॉ ओपी जोशी।

पर्यावरणविद् डॉ ओपी जोशी ने कहा तालाबों का सीमांकन और संरक्षण करने पर काम होना चाहिए। इसके साथ ही नए तालाबों के निर्माण पर सोचना चाहिए। कुएं-बावड़ी साफ की जाए। वेटलैंड भूमि का संरक्षण किया जाए। स्कूल-कॉलेज के विद्यार्थियों को जल प्रबंधन से जोड़े। पुरी शहर की तरह क्यों नहीं इंदौर में शुद्ध वॉटर उपलब्ध करा सकते। मुंबई में आबिद सुरती ने अपनी टीम के साथ घरों में नलों के लीकेज दुरुसत करने का अभियान चला रखा है अपने शहर में आबिद सुरती क्यों नहीं पैदा कर सकते।

हाइलाइट्स।

बिना शासकीय अनुदान के 63 साल से चल रहे अभ्यास मंडल ने विश्वसनीय संस्था के रूप में पहचान बनाई।

अभ्यास मंडल के 63 वें स्थापना दिवस पर प्रबुद्धजनों ने शहर हित में किए गए कार्यों का जिक्र किया। साथ ही कहा कि शासन से आर्थिक सहयोग लिए बिना जो काम अभ्यास मण्डल ने किए हैं, उससे इंदौर के विकास को गति तो मिली ही है, विश्वसनीय संस्था के रूप में पहचान भी बनी है।

“ घर-नौकरी के बाद बचे समय में सदस्य अभ्यास मंडल के काम में लग जाते हैं।नर्मदा आंदोलन, बाल मेले, नदियों का पुनरुद्धार आमजन के सहयोग से किया है।टीम काम करती है, पदाधिकारी वाला अहं नहीं है।पहली बार ‘उड़ान’ पत्रिका निकाली, हबीब बेग को पत्रिका निकालने का श्रेय है।जल प्रबंधन में भी इंदौर नंबर वन बने यह कर के दिखाएंगे। -शिवाजी मोहिते।

“ मैं 1972 से जुड़ा हूं। यह कहने में संकोच नहीं कि हमने बोलना अभ्यास मंडल से सीखा है।इंदौर के विकास का पर्याय है यह संस्था। -वीरेंद्र नाहर।

“ अभ्यास मंडल की लंबी और सार्थक यात्रा रही है। अधिकारी वर्ग भी संस्था के प्रति इसीलिए आदर दर्शाता है। वॉटस एप पर बहते ज्ञान के चलते आज सामाजिक संस्थाओं के सामने सबसे बड़ी चुनौती है नए लोगों को जोड़ने की। -इंजीनियर अतुल सेठ ।

“ अभ्यास मंडल 63 साल में पहुंच रहा है, इससे जुड़े सदस्यों में भी 95 फीसदी इसी उम्र के हैं।युवा पीढ़ी को जोड़ने के लिए स्कूल-कॉलेज स्तर पर ग्रुप बनाए जाना चाहिए तभी जल प्रबंधन सहित अन्य संकल्पों को आसानी से पूरा किया जा सकता है।-पत्रकार कीर्ति राणा।

“ लंबे समय तक गैर राजनीतिक आंदोलन चला था। सरकार को घोषणा करना पड़ी थी नर्मदा इंदौर लाने की।की, यह संस्था के प्रति शहर का विश्वास है।युवा पीढ़ी के जुड़ाव के लिए संवाद की निरंतरता जरूरी, इसके लिए वॉटसएप ग्रुप बनाए -पूर्व कलेक्टर सीबी सिंह।

“ व्याख्यानमाला में बालकवि बैरागी को सुना तब से मैं मन से जुड़ गया। व्याख्यानमाला से भी पूरे देश में पहचान बनी है। -कवि सत्येंद्र वर्मा।

“ हम सब एवरेज लाइफ को जी चुके, जिंदा रहने की संभावना है तो मुनाफे में मिली इस जिंदगी को समाज को क्यों न लौटाएं।इन 62 वर्षों में अभ्यास मंडल ने यह अवसर उपलब्ध कराया है। -पूर्व आईजी मदन राणे।

“ हरिभाऊ नाईक के विदाई समारोह में नागपुर जाना हुआ, वहां जब दादा धर्माधिकारी ने पूछा अभ्यास मंडल का क्या हाल है तो मुझे गर्वानुभूति हुई। -इंटक नेता श्याम सुंदर यादव।

“ हिंदुस्तान में इंदौर को अभ्यास मंडल के कारण अलग नजरिए से देखा जाता है। शहर हित के मुद्दों पर सक्रिय रहना पहचान है।-प्रेस क्लब अध्यक्ष अरविंद तिवारी।

🔹विजेता बच्चों को पुरस्कार वितरित।

अभ्यास मंडल के 63 वें स्थापना दिवस पर विद्यालयीन भाषण अभिव्यक्ति प्रतियोगिता आयोजित की गई थी। इसमें विजेता प्रथम शचि गुप्ता (अग्रसेन विद्यालय) द्वितीय अलवीरा पटेल ( कोलंबिया कान्वेंट) तृतीय अंशिका भारद्वाज (सिका स्कूल) प्रोत्साहन पुरस्कार सत्य साईं विद्या विहार की छात्रा दिशी जैन को नकद राशि व प्रमाणपत्र प्रेस क्लब अध्यक्ष अरविंद तिवारी ने भेंट किए। सांसद लालवानी को स्मृति चिह्न पल्लवी अड़ाव, वैशाली खरे ने भेंट किए। संचालन माला ठाकुर ने किया, अंत में आभार सुरेश उपाध्याय ने माना।

Facebook Comments

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *