प्रवासी भारतीय सम्मेलन और इन्वेस्टर्स समिट मप्र व इंदौर की ब्रांडिंग के माध्यम बनें

  
Last Updated:  Wednesday, November 23, 2022  "01:44 pm"

इंदौर के नागरिकों की सहभागिता से अविस्मरणीय होगा आयोजन।

प्रवासी भारतीय सम्मेलन और ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट की तैयारियों से रूबरू हुए मुख्यमंत्री चौहान।

इन्दौर : मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रवासी भारतीय सम्मेलन और ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट में आने वाले अतिथियों का स्वागत हम पलक पावड़े बिछाकर करेंगे। ये दोनों ही आयोजन मध्य प्रदेश और इंदौर की ब्रांडिंग के उम्दा अवसर बनेंगे। हम परिवार-भाव से सभी का स्वागत और अभिनन्दन करेंगे।

मुख्यमंत्री चौहान बुधवार को इंदौर में इन दोनों ही महत्वपूर्ण आयोजनों की तैयारियों की समीक्षा कर रहे थे। इस अवसर पर प्रशासन की ओर से आयुक्त नगर निगम प्रतिभा पाल ने आयोजन के लिए की जा रही व्यवस्थाओं और योजना की जानकारी दी। समीक्षा बैठक में संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री ऊषा ठाकुर, लघु एवं सूक्ष्म उद्योग मंत्री ओमप्रकाश सकलेचा, पूर्व लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन, सांसद शंकर लालवानी एवं अन्य जनप्रतिनिधि मौजूद थे। बैठक में अतिरिक्त मुख्य सचिव मोहम्मद सुलेमान, सचिव मनीष सिंह, संभागायुक्त डॉ. पवन कुमार शर्मा, कलेक्टर इलैया राजा टी, पुलिस कमिश्नर हरिनारायण चारी मिश्र एवं अन्य अधिकारी भी उपस्थित थे।

अविस्मरणीय बनाएंगे आयोजन।

मुख्यमंत्री चौहान ने बैठक में तैयारियों का जायजा लेने के बाद कहा कि इंदौर के नागरिकों की सक्रिय सहभागिता और जनप्रतिनिधियों के समन्वय से हम इसे एक अविस्मरणीय आयोजन बनाएंगे। मुख्यमंत्री ने अब तक की गई तैयारी और प्लानिंग पर संतोष जताया। उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश की प्रमुख विशेषताओं को इस अवसर पर प्रमुखता से उजागर करना चाहिए। लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने स्मारिका स्वरूप पुस्तक प्रकाशन का सुझाव दिया।

पुरातन विरासत का हो प्रदर्शन।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि एक जिला एक उत्पाद योजना के तहत चयनित उत्पादों का गिफ़्ट पैक भी अतिथियों को दिया जा सकता है। उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश की प्रमुख विशेषताओं माँ नर्मदा और यहाँ की पुरातन विरासत का प्रदर्शन भी इस अवसर पर किया जाना चाहिए।

पर्यटन स्थलों के पहुंच मार्ग दुरुस्त करें।

मुख्यमंत्री चौहान ने इंदौर के आस पास के पर्यटन स्थलों के पहुँच मार्ग की भी जानकारी ली और उन्हें समय रहते पूरी तरह दुरुस्त करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि होम स्टे के लिए प्रस्तावित घरों को प्रशासन की टीम जाकर देख ले और भली भाँति तस्दीक कर ले कि वे अतिथियों के लिए उपयुक्त हों।

बैठक में महापौर पुष्यमित्र भार्गव, इंदौर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष जयपाल सिंह चावड़ा, महेन्द्र हार्डिया, कृष्ण मुरारी मोघे, मालिनी गौड़, रमेश मेंदोला, आकाश विजयवर्गीय, सुदर्शन गुप्ता, मनोज पटेल, राजेश सोनकर, सावन सोनकर, दिव्या गुप्ता ने भी अपने सुझाव रखे।

Facebook Comments

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *