भगवा के नाम पर सत्ता हासिल करने वाले कर रहे भगवा का अपमान

  
Last Updated:  Wednesday, November 23, 2022  "12:44 pm"

विधायक संजय शुक्ला ने पंडित प्रदीप मिश्रा की शिवपुराण कथा के पोस्टर हटाए जाने पर जताया आक्रोश।

बीजेपी के इशारे पर नगर निगम द्वारा भगवा ध्वज और कथा के पोस्टर हटाए जाने का लगाया आरोप।

भगवा के अपमान का जनता देगी करारा जवाब।

इंदौर : इंदौर नगर निगम की टीम द्वारा शिव पुराण कथा के लिए लगाए गए पोस्टर – बैनर हटाकर जब्त कर लेने की विधायक संजय शुक्ला ने कड़ी निन्दा की है। उन्होंने कहा कि बुधवार शाम कथा को लेकर पंडित प्रदीप मिश्रा के सान्निध्य में निकलने वाली शोभायात्रा के स्वागत के लिए लगाए गए भगवा ध्वज तक निगम के दस्ते ने निकाल लिए जो धर्म का अपमान है। उन्होंने कहा कि भगवा का सहारा लेकर सत्ता में आनेवाले ही भगवा का अपमान कर रहे हैं।

नगर निगम का इस्तेमाल कर रही बीजेपी।

विधायक शुक्ला ने कहा कि विधानसभा क्षेत्र क्रमांक एक में वे और कांग्रेस धर्म जागरण अभियान चला रहे हैं, उससे बीजेपी के नेताओं में खलबली है।ये नेता दबाव बनाकर नगर निगम के अधिकारियों के जरिए शिव पुराण कथा के आयोजन में विघ्न डालना चाहते हैं। 2 दिन पूर्व भी निगम की टीम द्वारा दलाल बाग में 24 नवंबर से आयोजित की जा रही पंडित प्रदीप मिश्रा की शिव पुराण कथा के पोस्टर बैनर निकालकर जब्त कर लिए गए थे। बुधवार को शोभायात्रा के लिए बाणगंगा से लेकर दलालबाग तक के मार्ग को भगवा ध्वज से सजाया गया था । भाजपा नेताओं के दबाव के चलते नगर निगम की टीम ने पूरे मार्ग से भगवा ध्वज निकालकर गाड़ी में फेंक दिए। यह घटनाक्रम निंदनीय और घोर आपत्तिजनक है । भगवा ध्वज हमारे देश की संस्कृति और हमारे संस्कारों का प्रतीक है । इस ध्वज के साथ इस तरह का बर्ताव उचित नहीं है।

कथा आयोजन को विफल करने की रची जा रही साजिश।

शुक्ला ने कहा कि नगर निगम के माध्यम से इस भव्य कथा को असफल करने की कोशिश की जा रही है । ऐसी कोशिश कभी परवान नहीं चढ़ सकती। पूरे मध्यप्रदेश की जनता प्रदीप मिश्रा जी के मुखारविंद से शिव पुराण की कथा सुनकर आनंद का अनुभव करती है । ऐसे में जनता के आनंद में बाधा खड़ी करने के प्रयास कभी सफल नहीं होंगे। जनता ही बीजेपी और नगर निगम के इन कुत्सित प्रयासों का जवाब देगी।

Facebook Comments

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *