मांडू की ऐतिहासिक विरासत को देख अभिभूत हुए विदेशी स्टूडेंट्स

  
Last Updated:  Saturday, October 5, 2019  "04:09 pm"

इंदौर : लोग घूमने के लिए पेरिस, स्विट्जरलैंड सहित दुनिया के विभिन्न देशों की यात्राएं करते हैं। मगर शनिवार को विश्व के एक चौथाई देशों के हजारों स्टूडेंट्स एक साथ मध्यप्रदेश के मांडू की ऐतिहासिक विरासत और प्राकृतिक खूबसूरती निहारने पहुंचे। 
एमरल्ड हाइट्स इंटरनेशनल स्कूल द्वारा आयोजित 51वें राउंड स्क्वेयर कांफ्रेंस में हिस्सा लेने के लिए दुनिया के 55 देशों से ये स्टूडेंट्स इन दिनों इंदौर आए हुए हैं। इससे पहले भी विदेशी यहां आते रहे हैं, लेकिन यह पहली बार है कि दुनिया के एक चौथाई देशों के स्टूडेंट्स एक साथ यहां घूमने आए।
दरअसल मांडू को विश्व पर्यटन के मानचित्र पर उभारने और यहां की ऐतिहासिक और प्राकृतिक विरासत से दुनिया को रूबरू कराने के लिए ही आयोजकों ने 55 देशों का प्रतिनिधित्व कर रहे स्टूडेंट्स को मांडू की सैर कराई।

दुनिया ने देखी हमारी विरासत

एमरल्ड के प्राचार्य सिद्धार्थ सिंह के नेतृत्व में शनिवार सुबह 55 देशों के छात्र- छात्राओं का दल मांडू के लिए रवाना हुआ। इनमें फ्रांस, स्विट्जलैंड, अमेरिका, ब्रिटेन जैसे देशों के दल भी शामिल थे। मांडू में पांच घंटे तक ऐतिहासिक स्थलों का भ्रमण इन दलों ने किया। इस दौरान जहाज महल, जामा मस्जिद, रानी रूपमती महल और बाज बहादुर महल की सैर स्टूडेंट्स को कराई गई।
यहां विशेष रूप से गाइड की व्यवस्था की गई थी, जो विभिन्न भाषाओं में मांडू के इतिहास और सांस्कृतिक विरासत से विदेशी स्टूडेंट्स को अवगत करा रहे थे। स्टूडेंट्स ने यहां मांडू के इतिहास, संस्कृति और स्थापत्य कला के बारे में जानने में खासी दिलचस्पी दिखाई।

सेल्फी के लिए क्रेजी नजर आए स्टूडेंट्स।

मांडू भृमण के बाद इसके बाद सेल्फी लेने और फोटो खिंचवाने का दौर चला। इसमें स्टूडेंट्स के साथ बड़ी उम्र के लोग भी शामिल थे। विदेशी स्टूडेंट्स मांडू की स्मृतियों को संजो लेना चाहते थे। इसके चलते उनमें सेल्फी और फ़ोटो खिंचवाने को लेकर खासा क्रेज दिखाई दिया।

35 तरह के व्यंजन परोसे गए ।

मेहमान स्टूडेंट्स को उनके देश के स्वाद के साथ भारतीय व्यंजनों का भी स्वाद चखाया गया। 35 तरह के व्यंजन उन्हें परोसे गए। विदेशी स्टूडेंट्स ने भारतीय व्यंजनों का जमकर लुत्फ उठाया और उनके स्वाद की प्रशंसा की।

स्टूडेंट्स को भाई मांडू की सुंदरता।

स्विट्जरलैंड के एग्लोन स्कूल के स्टूडेंट्स ने बताया कि यहां का नजारा वाकई दिल जीतने वाला है। हमने भारत आने से पहले इंदौर के बारे में पढ़ा था, लेकिन यहां की खूबसूरती वाकई उम्मीद से बेहतर है। ऐसी ही राय स्विट्जरलैंड के इंटर कम्युनिटी स्कूल के स्टूडेंट्स की भी रही। ज्यूरिख स्थित यह स्कूल 1960 से संचालित हो रहा है और दुनिया में शिक्षा के क्षेत्र में बेहद प्रतिष्ठित माना जाता है। ऑस्ट्रेलिया के वेस्टमिनिस्टर स्कूल के स्टूडेंट्स को ऐतिहासिक इमारतों ने खूब लुभाया।

रविवार को करेंगे समाज सेवा।

एमरल्ड हाइट्स में आयोजित राउंड स्क्वेयर कॉन्फ्रेंस में भाग ले रहे विदेशी छात्र- छात्राएं रविवार 6 अक्टूबर को समाजसेवा का पाठ पढ़ेंगे। इन स्टूडेंट्स को वृद्धाश्रम, दृष्टिहीन संस्था और केंसर फाउंडेशन ले जाया जाएगा। वहां ये स्टूडेंट्स बुजुर्गों, दृष्टिहीनों और मरीजों के साथ वक्त बिताएंगे और उनकी सेवा करेंगे।

Facebook Comments

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *